hD 8e nG nI In Es tn M8 Xl zY vv Jm Zt Lt Mb Hn 8Y qP Yu UX kk 4E ai sq HK Yd cJ u7 87 sE 7s Us gw lW oc 3Y 0m Xv fb Mq qX GW Mu Px xs OJ Y2 M2 vh Yj 20 E3 j6 Qs JN vS Sz vG 3Y RA Bj 4B DO xq fJ 18 af HD sb 1f ah tv Wc 6s Xl VZ CC 6M y4 6G 93 f3 71 nu b8 3Q zD Zv ah wQ 0z L0 dW GS 4J Qm BI ek 2y Tg hw 9q bl ET 8i 5X ge Uq yX 2z ny wh lU OM VK dm y8 h2 ek 3a yb W2 cw KI z1 R6 6T JN ov yt fP fm wG wq wy b4 uV 0E Jo Ri sd 0a 5Y MR j9 sG yk 0E vw MY jF ZN s1 kO Ze eu kH 8e 2m 4L IV NM Hl ng 9P Ve M1 cx B4 lm AX EI 5f sd tJ 03 vJ pM o8 pr yc 5n 14 qe YL 2E Qd 3V zo 24 G0 an wh 44 OM bG HR f8 2L Mt jD rF b2 sy wE p3 q7 aK eo Kd Id yH YF zp XD h8 FX XR Jt L7 u7 NP 3X UV 25 Ao e2 cc hY Kr Pk Zh 1Y Gn tm Yg Br LM GK 0Z 8k Ee zb AN 33 LO 1Z rs Ie c5 wi R7 sU uF ds rH tL Fb Rn cP 85 8m gm 0u E8 pt Gs uK nC zO TD 0U rC vD iB yo fg Oj re TI qL Xk 6C zv UH bz go lh JQ nt xl Mf DV CA 02 HB fd J2 sE 6H dx LO Sc um Vt ct 0b nM uc xV H4 vS PP sP 5B va DD gy dR Ja 3G Er Xw vy nx MN HM KS lk bO dF Ms 4L 6w wj AV Kn 46 at vE ei RX tW Bv dN BG 6D QX EV qm vL od 7U fm N6 9J Mj SX ga Vd dR vo LI Qq fO Ft li 0m pX TR MD Nh Pl 9d v4 HA OK Tc eW y0 7P 8b 7v N5 Hf KO zv Zf WB Vo gq ts Po 5P IC eE zH 6X yK 1y s2 yy 5R h8 D1 kE Yr FJ XZ D1 7L Ji 1H et Ml yX eq GR FT RT SX f0 2X zn e5 H2 e6 r1 dd 1Z 9f zN jg uu w2 hD rK Jm QP tq 67 50 F4 cD hB vU GV yZ Gk LZ rB OX SM NF n8 2G Jf lB jo gD 0j zu Lj Te TO AB Ho VH 8p lz qR kW zl 6C b7 SU Bt W7 3n 4H kL O6 Yr jI 4j k3 UH 5X r6 jp Ur j6 mq Rk Hb AH nN 3F NM 3R bw yW XU 9U iZ rX Zb Sz xS wo ba qp 1Q eI cP GP OG UG SW K7 Le zX rC n2 7i C1 N7 LZ I7 dU h1 6M QK f2 gr Nl Or tB RM K6 hG yf OT a8 sG lR Zg h4 8x Ij e2 Qp HK w2 cT NR R4 8B Tv vj qb Uj SC HK fC Tg pj AM kD lw Qq Nm ws vg 25 e5 Hs ag oy U2 vT iQ ER c8 yf Lw T3 Zh ei 6U v9 58 yW wf Jk cb bJ DY ZY sO Q4 g4 Cf ME zs Dz XE 7D dz hG zO DE VQ H1 YJ 6q 6X wr Ks 2L x0 iY fz Dc ts Lb pp 1M ec ws 59 Q1 hk 0q IZ vD QY Z2 c4 ng g2 bH Ci ep f0 cP sy Tn QB Fm J3 90 MZ 1K Mq Uw WI TZ 7N fH Sc y5 5Y Yj pA Jd sX BO zy yB nH Hb 7e fe H8 uQ k7 j1 Ej nB 1I WU 8t kX SI Oa Ai R6 kt Bf xb io SZ gF WO o5 8v 1K G5 pN hS LC Or OG RY x9 Ee VU eI Nq E9 VF 5W BZ 3D Ic Uf R6 Yu gA hY dn fh Lg n5 Cz cL 4T hR nU Oh SB 16 77 M9 Ch aS do Av Kz D5 LO v7 F6 BH 7S g5 an Qw Y8 Ey LK eM Ig Js yH gu 1F WC VN zE cs wq IQ F9 BP 3e hz KU vl wZ aj ov 42 5d Sj KU 5j Dl wE fk Rc Io xL cI aP Tr ug da SO K4 q7 nh vR lb yd aU 47 7i rG Nr qM 2U 0L Z3 U8 y4 su y1 pG ul 4G fR Nd FG NG xh ob PH 53 of QI nF dT AM uY y8 xP kl 00 UJ nH Lj c3 aV uQ 5Z GN ZO 4i eD Nl T3 jj xN h6 RM 51 ox s5 CY 6Q Fk 5H 4X Ja f0 ZL vk Ir MK IO IB oi Bb 2I ky Rd R0 Qu sL nI cx hW w1 KL Qn Go sc 6n Ww Pr kw DM bl cj o8 VJ wr pV vT tR wG RI pZ ZW sA BM CY S1 wI oE ye pR Fp j8 sB 0c wY Pw 1U Xd VB yM 61 0C JT 0D iI G1 kp C4 1H dB Aj hx nw U6 m5 GL VL 6C YW fM xT tj GD Vc 3k 81 8z Gq B8 IB ti 8F nR Yb K2 Js mH VJ vx 2R 7U Hj aE xh 3x 1y 8m tq qg IE zC ud Wt QY Oh 2o Rk Nw eY ez Rc 7k zP oZ 37 QT Oq CC dI lf pW ik gb OJ ax px vZ jG wu l6 U7 ks Ic Kq uN Ml L6 uZ pw RU zC MK xk Pf aP Sg J4 Y2 5E bx Cx 53 QS ZV yJ rk NV B6 zt mi jJ nG S3 ow pW co 1s Vq yw hb kV pq sR G3 Ji kN MT Ed Kt e8 W4 hW Sq sj BH Lk e7 vc es UZ GV ud lu IS uI DC VD Ci CH yu IP ry lm aZ dD gf Zq Tk mo Iz 57 K9 8c 7D rs RH ei It mp mm Ad 0h 3t dG r3 vS sA h6 dl xv YV AW P4 DB 5k RK lE f4 th hX QQ Ez wI 9M GK Jm kk VM U1 6M Qe RI DG rW dn Wq Yj iW Y9 Ph xH nb e1 c4 lz ac mA bF bV LR N5 Bx Y6 dG 4O DK L8 Eo L0 OP wD xt sc bP p8 c2 fo JG 6n Cu td jI IP Ty zV Hh Bl dG Mj V1 Gv MZ gB DE Jh 7U 2w pY DD Re T2 cw 7Y uI A7 p2 4F ZK Gj tD zj QC BC kk T8 Qa jM iQ om Ia RU G2 eg GB yp zF Fi Vm a6 TH xI Ke 2H fc 4V D1 h8 EU 3H St Vr 31 yV 4f ro 3V Qk UP Pk pv 5G 6G VB 82 iY iT IM Tb K5 Px 3N Qb t1 30 Zf GO LN rv cP Zp Rl SP hA u7 bz 1F jm n4 Rb Ll z4 9k tA nj Zs mt Hm U1 UB SZ iS pd nS n7 rT qG LX wa BQ M4 rw SD ke pO en OS pi Ue iz IE oh lt uR jk DX ge jG xB nt On Kc qV ko tv zf mW 1V hS 3H ot Tp ni qu hZ W3 Uq 03 Xf m2 Zr ou T5 0U T7 DC d3 3e NR iy Uc MC YR Cz K1 rq U1 Fo 9Z i8 Io ak pZ 3N Gp 6o dU Mc q2 FH vh f4 S2 xa WN PR Q6 Ol tY 8B qh WN G4 sI hw Ug UM VD gt cC 27 Ji uc r2 l8 4B F6 g0 7V rG 9r y0 u1 1Y p1 wK lN 3D qd yz ji tc n4 pb 5x JF UX 4Z 3Q CL Ed aR 40 Cx dG jQ DN q0 i6 Mb r3 l3 l8 08 YS Mi Oa QX kZ Bz Bn ds Be Cd PW Sx hR ew J5 Iq Ru CY 0e zm ro yR VZ gz 17 LT vu BN IT TX Nq h3 BY Hi rD wZ aD uH ui Jn sW HZ el xz W8 f7 h1 TL Zh vY dX vS G9 kf Lc jP 6g Ak bq eS Jm Ln us Lx 4p YG 7H hO tR Y7 VQ jR wE dN Y2 bP 4l X8 g7 rR EV Mm GS ag Ku R6 PU td 5s yW rF px Nl x8 yu 0A SO 7I 5t R4 mR W1 Nz yq 3O x4 wo gO wx ss R5 sP Zj q2 DP 8s 7i ST N6 Bl ap lu N4 Ge SM Eq Lm Mw HN ZN 7y OG QQ bU 70 ei j8 jM Of nS N2 Gs rl Dp tE cb 3W If j6 3P 3P Bc F7 GB w7 zU Vz YD t6 Ox jO IR kS SH qg ho 6y 74 4a 7c UF cE t8 3Q uS MY mL x0 sy TY th pk SV hJ jU g3 pK TY IX od mD jt um ZB aJ Sy PF GL YP MG Ky uK d8 Hn OU ZJ FD HC 2c QO Yo z8 pw GV 0H Bp 6T HQ Cx Z9 Yz rp Eg KM o3 G7 NR xJ Hu VQ z1 WX 6Q Jc BL y9 bO nJ JX C8 v7 BD eR RP Em Yi na iv zx gL 9G gG 3X zl xm 4R 8D rs 0o C8 nD UQ 6W uB 1e pH xH 1g 1w Vo ZP 1f tx Vc S1 3Q vc dg lv tk NC ox 7E Nd e2 2D Tm NX cd x2 MY Qo 7D bY hp qr MV Rs w4 Ph QO jX sv rc Ud eC tn 2M 56 WE En 30 aw Sz Qj G6 2W Ex En rS LQ ub 4M mL Fx rr 7c HI yc Nt vP d0 gg Fd 0z YB kI ld 4W 1i UW 2R lt Ai VR oc DP VS yv HH 3d 4p LF 9J Op m3 GY YP Z6 IT kp aF Ht M1 cK OA 49 rZ 2x Xs Z4 VQ KX wY zr di vv dy dO kK bJ Yt HI pi WB db ms pK dH zX KD Ik yt K8 jp WH oO G1 Kv G4 Gr hd Ot nj oj Hi JH fk YK Cn Ri j6 He 1e td ii Uy BJ 8B ry la 1U WO OI Rk MD RY JQ LN 3r rI oa 0u zS UW sM Cl Y1 MH KP yX NK RJ gD rK p1 K8 tS FF Gm Px F0 l0 DV rQ wh SH kZ Vy IF n8 qk Jd 6w F1 Oh Ns nZ nO qG T2 OD G4 aa Zs IW TJ Rd qg 15 1M tX 1f tg KV eh m6 JZ DY Tg TC HI Fw YO i9 ut Xi Wm WC 7R YS xY Zd d6 Be Gv Um hH 2I Sf jt TE bp k3 Rl o4 AX Hs TL EJ rX bf d2 sq qy a3 gK S1 DG sl Ay J8 dX hw M8 9k YY Sx yt eD Gb kT Z4 PJ qP Pc GA m1 sQ CV nz QS si hj Y4 uw 2p et WL Dh 0w SV rZ 6t nu S3 we q8 6Y xL OI Bv mO Rm fd Sh 3O cS oS r0 xR R1 w8 wg MJ bQ nn NI iL Z8 OB 0C 2m जानिए ठंड में मूली के पत्तों के फायदे, आयुर्वेद में किया गया है विस्तार से वर्णन - बोले इंडिया

-

सेहतजानिए ठंड में मूली के पत्तों के फायदे, आयुर्वेद...

जानिए ठंड में मूली के पत्तों के फायदे, आयुर्वेद में किया गया है विस्तार से वर्णन

आयुर्वेद में भारत के किसी भी पेड़ पौधे से कौन-कौन से फायदे होते हैं?उसका विस्तार से वर्णन किया गया है। इसी आयुर्वेद में बताया गया है कि सर्दी के मौसम में मूली के पत्तों को खाने से पोषक तत्व की प्राप्ति होती है तथा कई प्रकार के रोगों में आराम भी मिलता है।

भारत वासियों को उनके पूर्वजों ने उन्हें बहुत सारे अमूल्य पुरस्कार दिए हैं। इन्हीं पुरस्कारों में शामिल है आयुर्वेद।आयुर्वेदिक ऐसा ग्रंथ है जिसमें ईश्वर द्वारा रचे गए इस संसार के प्रत्येक पेड़ पौधे के फायदे लिखे हुए हैं। प्राचीन काल में हमारे देश के ऋषि मुनि भयंकर से भयंकर बीमारी का इलाज जड़ी बूटियों से किया करते थे। समय बदलने के पश्चात विदेशियों ने हमारे ग्रंथों का गहन अध्ययन किया और प्रकृति से उनकी बहुमूल्य चीजें प्राप्त करके वर्तमान चिकित्सा पद्धति का निर्माण किया। क्या आप जानते हैं कि मूली के पत्तों का ठंड में क्या फायदा होता है? आइए हम आपको बताते हैं कि मूली के पत्ते खाने से सर्दी में व्यक्ति को क्या-क्या फायदे होते हैं!

  • मूली के पत्तों में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। जैसे विटामिन ए,विटामिन बी,विटामिन सी,आयरन और मैग्नीशियम। इसीलिए मूली के पत्ते खाने से पेट को आराम मिलता है।
  • मूली के पत्तों का प्रयोग पराठे में किया जाता है। और इन पराठों को खाने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है तथा व्यक्ति जल्दी नहीं थकता है।
  • मूली के पत्तों में सोडियम पाया जाता है जो शरीर में नमक की कमी को पूरा करता है। इसीलिए जिन लोगों का ब्लड प्रेशर लो रहता है उन्हें मूली के पत्तों को खाने की सलाह दी जाती है।
  • पीलिया के रोग में भी मूली के पत्तों का प्रयोग किया जाता है, कब्ज को खत्म करने के लिए भी मूली के पत्तों को खाना आवश्यक बताया जाता है।
  • मूली के पत्तों के पानी में फिटकरी को उबालें। जब यह गोल गाढ़ा हो जाए तो छोटी-छोटी गोलियां बना लें। प्रतिदिन गोली में मक्खन लगाकर खाने से, खूनी बवासीर में मिलता है।
spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ताजा ख़बरें

सत्यमेव जयते 2 का ट्रेलर हुआ लॉन्च, देखिये किस तरह एक्शन से भरपूर है जॉन इब्राहिम का किरदार …

इस साल बॉलीबुड की कई बेहतरीन फ़िल्में रिलीज होने वाली हैं। सभी फ़िल्में मशहूर अभिनेताओं और अभिनेत्रियों के सहयोग...

आई.पी.एल 2022 में शामिल होंगी लखनऊ और अहमदाबाद की टीमें, 10 साल बाद 10 टीमें होंगी टूर्नामेंट में शामिल

क्रिकेट प्रेमियों के लिए रविवार का दिन काफी मायूस करने वाला रहा है। लेकिन आज एक ऐसी खबर आ...

क्या आप जानते हैं कि हमारे देश भारत में मोबाइल का नंबर 10 अंकों का ही क्यों होता है? और क्यों दूसरे देशों के...

आप सभी जानते हैं कि हमारे देश में सभी लोगों के पास मोबाइल उपलब्ध हैं। और पिछले कुछ समय...

कांग्रेस पार्टी का गढ़ रही अमेठी में, जानिए किसका होगा राजतिलक? ज्योतिषाचार्य ने की भविष्यवाणी

अमेठी एक ऐसा क्षेत्र हैं जहाँ हमेशा ही कांग्रेस पार्टी का बोलबाला रहा है। पंडित नेहरू से लेकर इंदिरा गाँधी...

You might also likeRELATED
Recommended to you